Hindi Gandu sex kahani – अब तो मेरी रोज़ गांड बजती है – 2

Click to this video!

आपका प्यारा सा सनी गांडू
प्रणाम दोस्तो, कैसे हो सब…!
Hindi Gandu sex kahani पिछले भाग से आगे-
मुझे अब यकीन हो गया था कि प्रसाद ने उस दिन मुझे जिस अवस्था में देखा था उस दिन से शायद वो मेरा दीवाना हो चुका था।
मैं चाहता था कि पहल उसकी तरफ से हो।
मैं जानता था कि मैं कुछ न कह कर भी ऐसी परिस्थिति पैदा किया करूँगा कि उसको मुझे एक दिन मसलना ही मसलना पड़े।
अगली रात मेरा पहला आशिक फिर से रात को आया, उसने मुझे बहुत उकसा दिया, बोला- सनी सोच.. तुम उसकी बीवी की तरह होगी।

एक रूम, एक बैड पर अकेले, इससे बढिया क्या हो सकता है..! जब तुम दोनों के बीच सम्बन्ध बन ही गए, तो तुम ब्रा-पैंटी भी खुलकर  पहना करो। जो कपड़े तुमने छुपा कर रखे हैं.. मेरे लिए, अंकल के लिए, वो तुम बाहर अलमारी में रख सकोगे..!
उसकी बातों ने मुझे बहुत रोमांचित किया और मैंने अपने आशिक को भी आज बहुत रोमांचित किया, क्यूंकि उसके बाद हमारा मिलन दो महीनों या उस से भी ज्यादा समय बाद हो पाता।
आज उसके लंड को रंडी की तरह थूक-थूक कर चूसा। पूरी रात वो मेरे साथ रुका। तीन बार मेरी गांड को चोदा।
पहली तारीख आते ही मैंने अंकल से कहा- कंपनी हमें रूम दे रही है, इसलिए हमें वहाँ शिफ्ट होना है।
उसने भी अपना कमरा छोड़ दिया। दूसरी कॉलोनी में पहले से ही हमने पोर्शन किराए पर ले लिया था। वहाँ रूम भी बहुत सेक्सी था,वाशरूम भी बहुत सेक्सी था। हमने मिलकर अपना सामान सैट किया। पूरा दिन साफ़-सफाई में निकल गया।
शाम को बोला- थोड़ी देर आराम करते हैं। उसके बाद फ्रेश होकर खाने के लिए जायेंगे।
यहाँ पास में जी.टी रोड पर ढाबा है वहाँ खाना खाकर देखेंगे।


मैंने चाहते हुए भी अभी तक ऐसा कुछ नहीं किया, जिससे उसको मेरे गांडू होने का हिंट मिले..!
ना जाने क्यूँ मुझे ऐसा लगता था कि वो मेरे चिकनेपन पर, मेरे नर्म-नर्म जिस्म को देख कर सोचता होगा कि इसको धीरे से गांडू बना लूँगा।
उसने कुण्डी लगा दी, मुझे भी वैसे बहुत तेज नींद आ रही थी लेकिन शायद वो इसलिए आराम के लिए कह रहा था कि जैसे उसने मुझे मेरे रूम में नंगे को सोते देखा था यहाँ भी मैं वैसे ही कपड़ों में आराम करूँगा इसलिए उसने भी वही किया, फ्रेंची के साथ टी-शर्ट पहन कर लेट गया।
उसकी जाँघों पर टांगों पर सेक्सी बाल थे। मैं दिल ही दिल में पागल हो रही थी।
फ्रेंची में उसका उभरा हुआ हिस्सा देख एक बार दिमाग घूमा लेकिन बरमूडा और टी-शर्ट पहन कर, उसकी तरफ चूतड़ करके लेट गया।

मुझे नींद आ गई, एक घंटे बाद उसने उठाया और हम पहले चाय पीने गए वापस आकर रात को खाना खाने गए।
रात हुई मैं उसको धीरे-धीरे उकसाना चाहता था।
अगली रात मैंने टी-शर्ट और फ्रेंची ही पहनी। कुछ देर बातें करके उसकी तरफ गांड कर लेट गया।
ऐसे दो रातें और निकलीं।
मैंने आखिर दुबारा उसको दर्शन करवा दिए, मैं नहा कर तौलिये में निकला, उसका ध्यान मेरे मम्मों पर था। पौंछने के बहाने मैंने अपने मम्मे दबाए।
उसी रात बोला- पैग-शैग हो जाए? कई दिन हो गए दारु का मजा लिए।
“हाँ..हाँ हो जाए.. वैसे मैं पीता नहीं।” मैंने उसको ऐसे ही कह दिया, “तुम्हें कंपनी दे दूँगा।”
बोला- एक पैग प्लीज़..!
मैंने एक पैग खींचा। उसने काफी दारु खींच डाली। उसको काफी नशा हो गया। वो पक्का पियक्कड़ निकला।
वो खाना खाने जाने तक लायक नहीं रहा, सोचा था आज शायद नशे में मुझ पर हाथ फेरेगा.. शायद चाहता वो भी था.. लेकिन मैंने एक पैग ही लिया। काश.. मैंने दो पैग और लिए होते लेकिन मैंने उसको लिटा दिया, वो फ्रेंची में था।
मैंने दरवाज़ा लॉक किया, उसके करीब आया, उसकी टी-शर्ट ऊपर कर दी। उसके संग लिपट गया। उसकी छाती से मम्मे रगड़ने लगा।

मैंने उसके लंड को पकड़ लिया, बाहर निकाल देखा..
क्या लंड था.. साले का..!
मेरे छूने से उसका लंड हरकत में आने लगा, वो थोड़ा सा जगा भी लेकिन नशा ज्यादा हावी था।
मेरे पास उसके शरीर का जायजा लेने का, उसके लंड को पहले सहलाने का मौका था। मैंने सुपारे से आगे भी लंड मुँह में भर लिया,क्यूंकि अभी पूरा खड़ा नहीं था।
मैंने फ्रेंची उतारी उसके लंड को अपनी गांड के छेद पर रगड़ा।
वैसे वो अपने दिल की बात कहने को कितने दिन लगा देता और मैं तो रोज़ उसका पकड़ना चाहता था। मैंने खुलकर उसके लंड को चूमा-चाटा, उसके टट्टों को चूमा, उसकी छाती को चूमा, उसका हर अंग देखा। उसके होंठो पर होंठ तक लगाए।
मैं इतना गर्म हो चुका था कि मैं सब भूल गया, सोचा.. अगर होश में आ जाए तो आ जाए सही.. लेकिन अब खुलकर चूमने चाटने का मूड था, जो मैंने किया।
उसका लंड भी खड़ा कर दिया था, उसको सीधा भी किया उस पर बैठने की नाकाम कोशिश भी कर डाली। लेकिन होश, होश होता है, दो तरफ़ा साथ अलग होता है।
मैंने उसके लंड को जगा तो लिया, लेकिन बस उसकी तरफ से कुछ भी हरकत ने होने से उसका लण्ड मेरी गांड के अन्दर नहीं घुसा सका।
कुछ मजा लेकर मैंने उसके कपड़े दुरुस्त किए।
अपनी फ्रेंची को चीर में घुसा कर टी-शर्ट उतार कर लेटा था कि शायद रात को अगर होश आए तो मुझसे लिपटे, क्यूंकि उसने मुझे पाने के लिए ही तो उसने दारु का प्रोग्राम रखा था और हो सकता था कि वो कुछ करता भी।
रात के तीन बजे मुझे कुछ महसूस हुआ प्रसाद मेरे साथ चिपक सो रहा था, शायद अभी भी नशे में ही हुआ था लेकिन मेरा बदन जग गया था।
मैंने देखा उसको अभी तक नशा था। मैंने उसको धकेला सो गया।
मैं नहीं चाहता था पहल मैं करूँ, मुझे एक और चीज़ दिमाग में थी।
मैं बाथरूम में नंगा बैठा था कि कब प्रसाद जागे। जैसे वो उठा मैंने अपने बदन पर पानी डाला दरवाज़े की तरफ मेरी गांड थी और मैंने कुण्डी नहीं लगाईं थी ताकि एक बार मेरी मन मोहक गांड के दर्शन कर ले..।
दरवाज़ा खुला मैंने ध्यान देकर भी ध्यान नहीं दिया था, शायद वो देख कर मुड़ गया था। वैसे भी उसका सर फट रहा होगा।
नहा कर निकल मैंने अपने होने वाले पति के लिए नींबू पानी बनाया- यह लीजिए..!
खैर.. दिन बीता, शाम तक वो ठीक था बोला- हैंग ओवर हो रहा है.. दो पैग लगाने होंगे..
मैं चुप रहा, उसने लगाए और खाना खाने चले गए।
आज वो तो ठीक था नशा भी बहुत कम था, लेकिन उसका मूड बनाने के लिए टी-शर्ट फ्रेंची पहन कर रोज़ की तरह गांड को उसकी साइड करके लेट गया। जब उसे लगा मैं सो गया हूँ, वो मेरे करीब सरका।
मैं कहाँ सोने वाला था..! उसने मेरी गांड पर हाथ फेरा।
मैंने कुछ नहीं कहा, उसने चूतड़ों को हल्के-हल्के दबाया और फिर चिकनी जाँघों को सहलाया।
उसको डर था कि कहीं मैं जग ना जाऊँ।
मैं उसकी हरकत से गर्म हो रहा था।
मेरे अन्दर छुपी औरत निकलने लगी, आग बराबर लगी थी, मगर वो एक तरफ़ा आग सोचता था। उसने पीठ सहलाई मैं हिला तो उसने जल्दी से हाथ पीछे किया।
मैंने करवट ली मेरे चिकने और गोरे मम्मे, सेक्सी खड़े निप्पल उसकी तरफ थे।
जब मैं सेटल हुआ, कुछ देर बाद उसने देखा तो उसका हौसला बढ़ा कि मैं नींद में हूँ उसने हाथ सरकाया, मेरे निप्पल को छू लिया। धीरे से हाथ फेरा, मेरी गांड मचलने लगी, जिस्म अकड़ने लगा।
मेरा दिल कह रहा था, “प्रसाद आज मुझे अपनी पत्नी बना ले और मैं अगली सुबह उठूँ तो हल्की होकर उसकी पत्नी के रूप में आंख खुले।”
आँख की झिरी से मैंने उसके चेहरे के हाव भाव देखे, होंठों पर होंठ फेर रहा था। मेरे चिकने मम्मों को देख उससे रुका नहीं जा पा रहा था।
उसने मेरी नाभि सहलाई, वो हिम्मत तो करना चाहता था, उसने कोशिश भी कि कभी किसी पल मुझे लगा भी कि अब वो सारा डर छोड़ कर मुझे बाँहों में भर लेगा और मेरे नंगे जिस्म की तारीफ करते ही मुझ पर सवार हो जाएगा, लेकिन वो झिझक रहा था।
फिर क्या हुआ ?? क्या झिझक खुली .. !
यह जानने के लिए जुड़े रहो अपने सनी गांडू के साथ।
मुझे आप अपने विचार यहाँ मेल करें।

मुझे लग रहा था कि वो मेरे नंगे जिस्म की तारीफ करते ही मुझ पर सवार हो जाएगा लेकिन वो झिझक रहा था।
फिर क्या था उससे हिम्मत ही हुई नहीं और मैं अपने इरादे पर अटल था।
मुझे पहल नहीं करनी थी, मैं नहीं चाहता था कि वो सोचे कि कितना चालू गांडू निकला, उसका रूम पार्टनर..!
मैं चाहता तो आज रात आसानी से बिना कोई एफोर्ट लगाए सब सुख भोग सकता था। कहाँ मैंने कितने लंड उकसाए थे..! क्या पार्क, क्या ट्रेन, क्या बस, क्या कार, क्या कोई सुनसान सा बाग़ जहाँ तो पकड़े जाने की भी अधिक सम्भावना थी क्या मैं अपनी मर्जी नहीं चला सकता था..!
और आज तो लंड मेरे खुद के बिस्तर पर था, वो भी मुझे सोता हुआ समझ कर मुझ पर हाथ फेर चुका था।
अगले दिन जब उठे उसने खुद को बदल लिया था। वो मुझे शरारत वाली नजर से देख रहा था। जब मैं नहा कर निकला उसने बड़ी शरारत से मुझे निहारा, “वैसे एक बात कहूँ सनी.. तुम बहुत खूबसूरत हो..!
मैं मुस्कुरा दिया..!
“कितना गोरा रंग है तेरे बदन का.. और यह काली फ्रेंची बहुत जंचती है तेरे रंग पर..!
“अच्छा जी..”
बोला- मुझे तो लगता है तेरे बदन पर पानी की बूँद तक नहीं ठहरी होगी..!
“क्या बात है? आज बहुत मूड में हो..!” मैंने भी नशीली आँखों से उसको देखा, “आज से पहले तो तुमने ये कभी नहीं कहा..!”
“पहले हम साथ-साथ थोड़ी रहते थे अब जब तीन दिन से तुझे देख रहा हूँ तो महसूस किया, इसलिए तारीफ कर दी। तेरे गोरे बदन पर एक बाल तक नहीं दिख रहा।
“तुम्हारी बॉडी पर तो घने बाल हैं ना..!”
“हाँ.. मर्द के होने भी चाहिए.. तभी तो लड़की मरती है। तुम भी मत हटाया करो अपने बाल..!”
“अच्छा जी..!”
“हाँ,” वो बोला, फिर खुद ही बोला- वैसे तुम रहने दो तेरा जिस्म बहुत नाज़ुक सा है, इसलिए चिकने ही रहा करो। बहुत ही बढ़िया दिखते हो..!
मैंने तो मानो उसकी बातों को सुनते-सुनते ही कपड़े डालने रोक ही दिए थे।
“क्या नाज़ुक है मेरे जिस्म में?”
“सब कुछ नाज़ुक ही दिखता है।”
“आज यह आप को क्या हो गया.. पहले कभी तारीफ नहीं की..!”
“क्यूंकि अब हम साथ रहते हैं..न..! तुझे करीब से देखता हूँ इसलिए..!”
“मुझे तो प्रसाद जी ऐसे ही अच्छा लगता है, बाल-वाल मुझे अपने जिस्म पर तो कतई पसंद नहीं हैं..!”
“चल छोड़.. लेट हो जायेंगे..।”
मैं अभी पानी डालकर निकला था।
“तुम कितना वक़्त लगाते हो बाथरूम में..!” वो बोला- मुझे लगता है एक साथ नहाना पड़ा करेगा।
“आप भी ना सर.. बहुत मजाक करते हो..!”
वो नहा कर निकले मैं बाल ठीक कर रहा था। तौलिया उतारते हुए फिर से दर्शन हुए लेकिन मैंने शो नहीं किया।
“देख इधर कितने घने बाल हैं.. हर जगह पर हैं बगलों में..!” वो तो एकदम से मानो बदल गया था, “यहाँ भी देख..!”
उसने अपनी फ्रेंची खिसका दी। उसका काला मोटा लंड सोई हुई अवस्था में काफी बड़ा था।
“आप भी ना सर.. ! मैंने मानो इगनोर सा किया। उसका चेहरा मुरझा गया, मेरा दिल मचल रहा था सुबह-सुबह गांड में खलबली मच गई थी।
खैर काम पर गए.. पूरा दिन मुझे वो सुबह का सीन ही दिख रहा था। आज सोच लिया था कि अगर उसने रात को हाथ-हूथ फेरा तो मैं भी सोते-सोते उसकी तरफ खिसकता जाऊँगा।
कहानी जारी रहेगी।
मुझे आप अपने विचार यहाँ मेल करें।

Previous Part of the story

Comments


Online porn video at mobile phone


indian dick picturesgay sex lokalsex HD muh Me girane valaTamil boys cock photoIndian uncle Hindi xxxxxx video under maal girane wala seendesi+boys+nudityfree gay daddyes en tumblargaysexindianoffice.comIndian mota gay nude mangayxnxxpappeunki.xxxgay India male naked body,india gaysexxxx desi gaydesi hot gay cockcock nude Desi full hdxxx sxey men hot indianindian gay big asswww.tamilgayxxx.comindian cock photosmama bhanja gay chudaidesi penis picsindian gay nudesदेशी ईनडियन गे सेकस ईसटोरीxxx desi gay secret sex imageswww.xnxx beardad Pakistangay punjabis cockIndian man nakedporogi-canotomotiv.ruadami gay bhas xxx com videoIndian gay sex siteindian gay nude full nakedindian uncle and dad sex videonaked indian lundraja desi tumblrimagasdesifoji gay big cock story hindimensh kase hota ha ha dekhao xxx HD gay mardo ka lawdaindian village gay nude picsdesi jawan mard nudefull HD sexy photos of Honey Prithvi Bigg Boss gaand mein loda chut me lodakahani gandu gay maldesigayporno.comgaandiya hindi storyindian desigaysex picsindiangaysite gay anal creampiedesi indian boys penismysore hot village bhabhi first 8217sex boy heronude indian manboy sex gay boy Indiandesi gays fuck photosIndian gay nudegaypics.comboy xxx gay नये मे कहानी हरियाणा6ka nakedजबरदसत मोठा लंड गे विडीयोnew gay porn 2017 indianसमलैंगिक ऊपर से नीचे sexxxx हिंदी कहानीहिन्दी मैं गे सेकस HD विडीयोदेसी गे गांडू ने अंडरवियर फाड़ कर नंगा किया गेboy ka man nahi tha xxx videoindian uncle nude gaybaap ke sath gay sexindian mature daddy sexbig dick indiadesi gay naked photosNaked men indiaDesi penis tamilindian gay boys nudemature desi gay sex videoindian handsome men nude imageindian dick sex2 ladkiya vali sexindiynindian gays cum bodyhunk nudepunjabi sardar xxx.com